Sunday, 25 June 2017

बचपन



जो किसी भी लालसा से मुक्त होगा
सच कहें तो बस वही उन्मुक्त होगा


हो नहीं ईर्ष्या न मन में द्वेष कोई
हो न अभिलाषा-जनित आवेश कोई


कुछ नहीं पाना अगर तो रोष कैसा
मन अगर संतुष्ट फिर आक्रोश कैसा


घूमते लट्टू इसी में व्यस्त बच्चे

भूल कर दुनिया हुए हैं मस्त बच्चे

नाचते लट्टू उधर बच्चे नचाते
लोभ के चक्कर बड़ों को हैं घुमाते


खेल बस प्रतिद्वंद्विता का खेलते हैं
लालसा में लिप्त जीवन झेलते हैं


एक कल्पित प्रगति का उन्माद मन में
जी रहे हैं बस लिए अवसाद मन में


लौट तो सकता नहीं बचपन दुबारा
पर बदल सकता है ये चिंतन हमारा


है मिला जितना उसे पर्याप्त मानें
सुख सदा संतुष्टि से ही प्राप्त जानें


अब न इच्छाएँ भले ही तुष्ट हों सब
है उचित फिर भी सभी संतुष्ट हों अब


<><><><><><><>
भूपेन्द्र सिंह "शून्य"

Sunday, 18 June 2017

मेघअश्रु बरसाता है



प्रकृति दोष जब धरती माँ के, आँचल आग लगाता है
एक वक्त की रोटी को भी, पेट तरस तब जाता है
कुल कुटुंब की भूख विवशता, होती धरती पुत्रों की

शुष्क नयन से तब सावन भी, मेघअश्रु बरसाता है


इठला कर बादल का पौरुष, दावानल है उगल रहा
कृषक पुत्र की खुशियाँ सारी, सत्ता का सुख निगल रहा
खलिहानों का सूखा अँधड़, मन मंतस तरसाता है
शुष्क नयन से तब सावन भी मेघअश्रु बरसाता है


जहाँ वेदना को ठुकराना, ही मंशा सरकारी है
तब प्राणों को आहुत करना, कृषकों की लाचारी है
जय किसान का घोष व्यर्थ तब, बोझ कलुष बनजाता हैं
शुष्क नयन से तब सावन भी, मेघअश्रु बरसाता है


***** अनुपम आलोक

Sunday, 11 June 2017

दो घनाक्षरी



जो भी हो मुझे पसंद, हो जाये वो रजामंद,
नाज़ जो उठाये सदा, साथी ऐसा चाहिए।
मानूं कभी उसकी मैं, वो भी मान जाए मेरी,
ताल जो मिलाये सदा, साथी ऐसा चाहिए।
हाँ में हाँ मिलाने वाले मिलेंगे कई मगर,
गलती बताये सदा, साथी ऐसा चाहिए।
माँगे जो सभी की खैर, याद नहीं रक्खे बैर,
बस भूल जाये सदा, साथी ऐसा चाहिए।।


********************************


मोती ज्यों हो सीप सँग, बाती जैसे दीप सँग,
साथ मेरे आये सदा, साथी ऐसा चाहिए।
डूबे मेरे दुख में जो, और मेरी खुशियों में,
खुशी जो मनाये सदा, साथी ऐसा चाहिए।
रास्ते हों फूल भरे चाहे मिलें शूल भरे,
साथ जो निभाये सदा, साथी ऐसा चाहिए।
एक एक मिलकर ग्यारह बन जाते हैं,
हाथ जो बढ़ाये सदा, साथी ऐसा चाहिए।।


***** गुरचरन मेहता 'रजत'

Sunday, 4 June 2017

सज़ा/दण्ड पर पाँच दोहे


शांति व्यवस्था के लिए, बनते दण्ड विधान।
कर्म दंड के हेतु हैं, ऊपर कृपानिधान।।1।।


लिखे नहीं कानून में, कुछ ऐसे भी दण्ड।
ईश्वर जो देता सजा, होती बहुत प्रचण्ड।।2।।


आया है कानून का, अब कुछ ऐसा दौर।
सज़ा किसी को मिल रही, अपराधी है और।।3।।


कभी लगे जीवन सज़ा, कभी लगे आनंद।
मिले हलाहल भी यहाँ, और यहीं मकरंद।।4।।


सज़ा सख्त सबसे यही, मन से दिया उतार।
जीते जी इंसान को, देती है जो मार।।5।।


***हरिओम श्रीवास्तव

रक्षा-बन्धन आया है

देखो कैसा पावन दिन यह, रोली-चन्दन लाया है आज बहन से मुझे मिलाने, रक्षा-बन्धन आया है  बाबूजी की प्यारी बिटिया, माँ की राज दुलारी थी...